नई दिल्लीः टेलीकॉम इंडस्ट्री ने सरकार से आपदा जैसी स्थिति घोषित करने की मांग करते हुए उन्हें 1800 बैंड में अस्थायी रूप से अतिरिक्त स्पेक्ट्रम देने की मांग की है. इस बीच कंपनियों ने आपस में आपदा जैसी स्थिति वाले कदम उठाने की तैयारी शुरू कर दी है. इसके तहत वह आपस में इंट्रा सर्किल या एक सर्किल के अंदर ही नेटवर्क व टॉवर साझा करने पर सहमत हो रही हैं. फिलहाल इस तरह की सुविधा गृह सर्किल से बाहर निकलने पर अन्य सर्किल में जाने पर मिलती है.

इसकी वजह बताते हुए एक कंपनी के अधिकारी ने कहा कि कोरोना की वजह से वर्क फ्रॉम होम या घर से काम करने का चलन बढ़ गया है. इससे आवासीय इलाकों में नेटवर्क पर 20 से 30 प्रतिशत दबाव बढ़ गया है. यही वजह है कि हमने सरकार से अस्थायी स्पेक्ट्रम की मांग की है.

वहीं कंपनियां गृह या होम सर्किल में भी अपना नेटवर्क साझा करने पर सहमत हो गई हैं. इस दबाव से ओटीटी या ओवर द टॉप कंपनियों की स्ट्रीमिंग भी बढ़ा रही है. हमने सरकार से अनुरोध किया है कि इन ऑनलाइन मनोरंजन कंपनियों को भी निर्देश दें कि उनकी स्ट्रीमिंग एचडी की जगह स्टैंडर्ड मोड में हो.

दूरसंचार सचिव अंशु प्रकाश ने कहा कि ओटीटी कंपनियां एचडी से स्टैंडर्ड मोड पर आने के लिए कदम उठाने की दिशा में बात कर रही हैं. जल्द ही उनकी ओर से इस तरह के कदम दिखेंगे. हम टेलीकॉम सर्विसेज सुचारू रखने के लिए समुचित कदम उठा रहे हैं. नेटवर्क बेहतरीकरण और रिपेयर के लिए आवश्यक निर्देश जारी कर दिए गए हैं.